होली पर इस गांव की ढूंढोत्सव परम्परा देती है बेटी बचाओ का संदेश

बेटियों द्वारा वडुलिया (गोबर से बने हुये) की माला बनाकर होली को पहनाने की परम्परा आज भी कायम है धारता गांव में

उदयपुर. आज जहां लड़की को पैदा होने से पहले ही मारा जा रहा है या उन्हें मरने के लिये किसी झाडी या नाले में फेंक दिया जाता है। उसी समाज में एक ऐसा गांव भी है जहांं बेटियों के पैदा होने पर पूरा गांव खुशी मनाता है। वे उन्हें खूब पढ़ाते हैंं और आगे बढ़ने के लिये प्रेरित करते हैंं। मावली तहसील के अन्तर्गत खेमपुर ग्राम पंचायत के धारता गांंव मेेंं बेटी बचाने की अनोखी परम्पराएं वर्षों से आज भी कायम है।
बेटियों द्वारा वडुलिया (गोबर से बने हुये) की माला बनाकर होली को पहनाने की परम्परा: धारता गाँव में आज भी छोटी बच्चियों द्वारा वडुलिया (गोबर से बने हुये) की माला बनाकर होली को पहनाने की परम्परा है जो बेटी बचाओं का संदेश तो देती ही है, साथ ही भाई-बहिन के पवित्र रिश्‍ते को भी मजबूत करती है।
वडुलिया जो गोबर से बनते हैंं वो केवल बेटियों द्वारा ही बनाए जाते हैंं। सूूखने पर उसकी माला बनाकर गांंव की लड़कियां होली जलाने से पूर्व होली को माला पहनाने जाती है। साथ ही इस माला में एक गोबर का नारियल भी बनाती है उसमें अपनी सुविधानुसार चाॅॅॅकलेट, पैसे रखती है। उस नारियल को लड़की का भाई होली के स्थान पर फोड़कर उसमें से चाॅॅॅकलेट, पैसे निकालता है और बहन माला को होली को पहना देती है। यह माला सिर्फ लड़की ही बनाती है और लड़की ही पहनाने जाती है।
दूसरी परम्परा: बेटी बचाओ की अनोखी परम्परा ढूंढोत्सव
होली के समय ढूूंढोत्सव के कार्यक्रम में सबसे पहले गांंव में जिस परिवार में लड़की होती है जिसकी पहली ढूंढ होती है, गांंव के सभी लोग ढोल-नगाड़़ा़ेें के साथ वहांं सबसे पहले जाते हैं। पीली मिट्टी से मांडना बनाते हैंं उस लड़की को जिसकी प्रथम होली है उसके रिश्‍तेेेेेदार द्वारा गोदी में लेकर बैठाया जाता है। उसकी लम्बी उम्र के लिये सब प्रार्थना करते हैं। वहीं लड़की के परिवार द्वारा गाँव के सभी लोगों को गुड़़-मिठाई खिलाकर सबका मुँह मीठा कराया जाता है। उसके बाद फिर दूसरी जगह जिस परिवार में लड़का हुआ है वहाँ जाते हैं। ढूंढोत्सव की शुरूआत बेटी की ढूंढ से ही होती है।
धारता गांव में आज भी वर्षों से ये दोनों परम्परा कायम है जो कहीं न कहीं बेटी बचाने का संदेश भी दे रही है।

dharta2.jpg


Holi festival

Patrika

Leave a Comment