वीडियो वायरल के भय से ही सेठ व युवक पहुंचा थाने, वरना उन्होंने अबला की आवाज दबाने नहीं छोड़ी कोई कसर

वीडियो वायरल के भय से ही सेठ व युवक पहुंचा थाने, वरना उन्होंने अबला की आवाज दबाने नहीं छोड़ी कोई कसर

मोहम्मद इलियास/उदयपुर
गन प्वाइंट पर युवती के साथ सामूहिक बलात्कार व साथी युवक के साथ कुकत्य के इस घटनाक्रम को परिवादियों व उसके सेठ ने खूब दबाने का प्रयास किया लेकिन आरोपियों द्वारा बनाए गए वीडियो के वायरल होने के भय से वे थाने पहुंचे। पुलिस ने परिवादियों के बयान कलमबद्ध कर उनके काले कारनामों का भी चि_ा तैयार कर इन्हें भी संदेह के घेरे में रखा है। इधर, सामूहिक बलात्कार के मामले में गिरफ्तार आरोपी कैलाश कॉलोनी, सूरजपोल निवासी प्रदीप पुत्र भंवरलाल मेघवाल को न्यायालय ने पूछताछ के लिए दो दिन के पुलिस रिमांड पर रखने का आदेश दिया। अब तक जांच में पुलिस ने शाहरुख, फरदीन, छोटा मेवाती, मोइन सहित छह जनों को नामजद कर रखा है, जिनकी तलाश जारी है। पुलिस ने बताया कि आरोपी प्रदीप से पूछताछ व परिवादी के बयानों के बाद समस्त घटनास्थल का निरीक्षण किया गया। पुलिस ने काठियावाड़ी होटल, लूटपाट वाली जगह प्रतापनगर-बलीचा बाइपास व सामूहिक बलात्कार वाले स्थान देबारी रेलवे पुलिया का निरीक्षण किया। पुलिस को रेलवे ट्रेक के पास कुछ आपत्तिजनक वस्तुएं तथा वहां गाडिय़ों टायर के निशान मिले हंै।

देबारी मार्ग पर लगे फुटेज हाथ में
पीडि़ता व उसके साथी युवक को आरोपी रात 1:58 बजे देबारी रेलवे पुलिया पर लेकर गए थे। पुलिस को वहां 1: 58 व 2:22 बजे के गाडिय़ों के सीसीटीवी फुटेज मिले है। आरोपियों ने फायरिंग कर एक गाड़ी वहीं छोड़ी थी तथा बाद में मौके पर कार व बाइक से पहुंचे साथियों के साथ वे वापस बाहर निकले थे। आरोपियों ने वहां पर परिवादी की गाड़ी के टायर पर फायर भी किया था। पुलिस अब एफएसएल की मदद से इस कार की जांच करेगी। जांच में ही टायर पर लगे बुलेट का खुलासा हो पाएगा।

20 घंटे तक मामले को दबाने का किया प्रयास पुलिस जांच में सामने आया कि पूरे घटनाक्रम में परिवादी युवक खुद ही युवती को होटल लेकर पहुंचा था, उसी ने वहां एक आरोपी को कॉल किया। कुछ विवाद के बाद आरोपी वहां से अपहरण कर ले गए और बाद में युवक-युवती से सामूहिक बलात्कार व कुकत्य किया। इस पूरे घटनाक्रम के बाद सुबह 7 बजे युवती अपने कमरे पर पहुंच गई थी लेकिन युवक, उसके सेठ ने शाम 6.30 बजे तक पुलिस को सूचना नहीं दी। दिनभर मामले को उन्होंने दबाने का प्रयास किया लेकिन सेठ वीडियो वायरल होने का भय से बाद में थाने आया।





Patrika

Leave a Comment