राजस्थान के इस शहर में झीलों में मत्स्य ठेके बंद की पैरवी, बदले में राजस्व निगम-यूआईटी दे देगा

0
289
AdvertisementAmazon Great Indian Sale Banner

विधानसभा में कटारिया-जोशी ने रखी बात

मुकेश हिंगड़ / उदयपुर. विधानसभा में विस में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया व मावली विधायक धर्मनारायण जोशी ने उदयपुर की झीलों में मत्स्य ठेके बंद करने मांग रखते हुए प्रस्ताव दिया कि उदयपुर की नगर निगम व यूआईटी विभाग को जो राजस्व मिल रहा है वह दे देगी। साथ जोशी के सवाल पर मंत्री लालचंद कटारिया ने घोषणा करते हुए एकलिंगजी के बंध तालाब में ठेका बंद करने की घोषणा की।
सदन में मावली विधायक धर्मनारायण जोशी ने उदयपुर जिले की झीलों व तालाबें में अवैध मत्याखेट रोकने का सवाल करते हुए कहा कि एकलिंगनाथ मेवाड़ के चार धासे प्रति वर्ष राज्य सरकार को 11 हजार रुपए का राजस्व मिलता है। वहां पर लोग अस्थियां विसर्जन के लिए भी आते है ऐसे पवित्र स्थान का ठेा 11 हजार का, इसे राज्य सरकार को बंद कर देना चाहिए। जवाब देते हुए कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने सदन में घोषणा करते हुए कहा कि उसका ठेका नहीं किया जाएगा। जोशी ने कहा कि फतहसागर व पिछोला झील में 40 साल पहले से सारी गंदगी भी वहीं पड़ी रहती थी, उसके बाद भी पानी साफ रहता था। अभी इतने साधन के बाद भी पानी साफ नहीं रहता है। उदयपुर में नगर निगम व यूआईटी की वित्तीय स्थिति ठीक है ऐसे में वहां पर उनसे राशि ले ली जाए और ठेका बंद कर दिया जाए ताकि उदयपुर को पीने का शुद्ध पानी वहां से मिल जाए। मंत्री कटारिया ने कहा कि इस बार में अधिकारियों से मीटिंग कर के अच्छे से अच्छा निर्णय कर लेंगे। नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि कटारिया ने भी कहा कि नगर निगम व यूआईटी प्रति वर्ष राशि आपके विभाग को दे दे, प्रतिवर्ष दस प्रतिशत राशि भी बढ़ाकर ले ले लेकिन वहां ठेके बंद कर दिए जाए इस पर मंत्री ने कहा कि मीटिंग कर विचार करेंगे। इससे पूर्व जवाब में जोशी को मंत्री ने बताया कि उदयपुर जिले के कुल 27 जलाशयों में मत्स्य पालन के ठेके से वर्ष 2019-20 में 5.98 करोड़ रुपए का राजस्व मिला है। यहां झीलों व तालाबों में अवैध मत्स्याखेट के 12 केस पकड़े गए है।

उदयसागर नहर की वितरिकाएं ठीक कीजिए
पर्ची के जरिए बोलते हुए मावली विधायक धर्मनारायण जोशी ने कहा कि विस क्षेत्र में उदयसागर की जो नहर निकली हुई है उसकी छोटी-छोटी वितरिकाएं है, वे सब कच्ची है तो पानी व्यर्थ जा रहा है। कहीं तो पानी ज्यादा भरा है और कहीं टेल पर पानी पहुंच ही नहीं रहा है। ऐसे में उनको रिपेयर कराया जाए। जोशी ने यह भी कह कि मैने पिछली बार एक प्रश्र पूछा था कि सिंचाई विभाग में पिछले साल में कितने रुपए लगाएगए लेकिन प्रश्र का उत्तर इतना अस्पष्ट था कि उसे कोई पढ़ नहीं सकता है। जिला परिषद की बैठक में मैने कलक्टर से कहा कि आप इसे पढकऱ सुनाएं। केवल मात्र उसमें यह पढ़ा गया कि बागोलिया बांध में उन्होंने 28 लाख रुपए रिपेयर में लगवाए परंतु आश्चर्य होगा कि एक रुपया भी रिपेयरिंग में नहीं लगा पिछले साल। इसकी जांच कराई जाए, कुछ तालाब जैसे भारोड़ी का तालाब, सिंदू, माणक्यावास का तालाब जिसमें पानी रिस रहा है उनको रिपेयर कराया जाए।

अलसीगढ़ टनल का गेट खराब, पानी रिस रहा

उदयपुर ग्रामीण विधायक फूलसिंह मीणा ने नियम 295 के तहत विशेष उल्लेख की सूचना देते हुए कहा कि देवास प्रथम अलसीगढ़ बांध के पानी के लीकेज को रोका जाए। उन्होंने कहा कि अलसीगढ़ की जो टनल है उस पर लगे गेट के खराब होने की वजह से पानी व्यर्थ बहकर जा रहा है। मीणा ने कहा कि गेट को ठीक किया जाए। मीणा ने आंगनवाड़ी केन्द्रों के सवाल पर सरकार ने कहा कि ग्रामीण विस क्षेत्र में तीन बाल विकास परियोजनाएं क्रमश: बडग़ांव, गिर्वा व उदयपुर शहर में संचालित है। इमें बडग़ांव में 32, गिर्वा में 153 व उदयपुर शहर में 24 कुल 209 आंगनवाड़ी केन्द्र संचालित है। इनें आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के स्वीकृत 209 में से 5 पद रिक्त है, इसी प्रकार आंगनवाड़ी सहायिक के 191 पद स्वीकृत है जिनमें से 1 तथा आशा सहयोगिनी के 191 पद स्वीकृत है जिनमें से 8 पद रिक्त है। वैसे सभी प्रस्ताव पढ़े हुए मान लिए गए थे। इसी प्रकार सलूंबर विधायक अमृतलाल मीणा ने आंगनवाड़ी केन्द्रों पर गर्भवती महिलाओं को पोषाहार के वितरण को लेकर सवाल किया।

Patrika

AdvertisementAmazon Great Indian Sale Banner

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here