मार्च में बारिश : 100 साल में 24 बार बने हालात

वर्ष 2015 के बाद इस मार्च में बरसे मेघ, पश्चिमी विक्षोभ से बदला मौसम(weather)

उदयपुर . सर्द मौसम खत्म होकर गर्मी का दौर शुरू हो चुका है। इस बीच मार्च(March) में अचानक बदले मौसम ने सभी को चौका दिया है। गर्मी अमूमन मार्च में असर दिखाने लगती है, लेकिन इस बार बरसात आने से वातावरण में अचानक ठण्डक लौट आई है। मार्च में बरसात का आना पहली बार नहीं हुआ है। आंकड़ों पर नजर डालें तो बीते 100 सालों में 24 बार ऐसा हुआ है। इस दशक में पांच साल बाद मार्च में बरसात हुई है। इससे पहले वर्ष 2015 में लगातार तीन दिन तक बरसात हुई थी।

मौसम विशेषज्ञों की मानें तो पश्चिमी विक्षोभ के कारण इस बार मार्च(March) में बरसात का वातावरण बना है। समूचे उत्तर भारत में पश्चिमी विक्षोभ का असर बना हुआ है। लिहाजा राजस्थान के भी विभिन्न क्षेत्रों में बरसात और ओलावृष्टि हो रही है। महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (एमपीयूएटी) के कॉलेज ऑफ टेक्निकल एजूकेशन (सीटीएइ) में एसोसिएट प्रोफेसर महेश कोठारी ने बताया कि आमतौर पर मार्च में बरसात नहीं होती। इस बार बरसात होने से पहले वर्ष 2015 के मार्च में बरसात हुई थी।

किस दशक में कितनी बार
– 30 के दशक में 01 साल

– 40 के दशक में 03 साल
– 50 के दशक में 0२ साल

– 60 के दशक में 05 साल
– 70 के दशक में 06 साल

– 80 के दशक में 02 साल
– 90 के दशक में 02 साल

– 2000 के दशक में 02 साल
– 2010 के दशक में 01 साल

– 2020 के दशक में 02 साल
तापमान(Temperature) में भारी गिरावट

मौसम विभाग के अनुसार गुरुवार रात को बरसात के बाद शुक्रवार को तापमान में 2 से ढाई डिग्री की गिरावट दर्ज की गई है। अधिकतम तापमान में 2.8 डिग्री की कमी आई, वहीं न्यूनतम तापमान 2 डिग्री गिर गया। शुक्रवार को अधिकतम तापमान 25.4 डिग्री और न्यूनतम तापमान 14 डिग्री दर्ज किया गया। इससे पहले गुरुवार को अधिकतम 28.2 डिग्री और न्यूनतम तापमान 16 डिग्री रहा था।






Patrika

Leave a Comment