मंत्री डोटासरा के जवाब पर कटारिया बोले सदन में ऐसे उत्तर आएंगे तो प्रश्र पूछने का मंतव्य ही खत्म हो जाएगा

विधानसभा में सलूंबर के 302 बीपीएल विद्यार्थियों पर विधायक मीणा का सवाल

मुकेश हिंगड़ / उदयपुर. विधानसभा में सलूंबर क्षेत्र में आरटीइ के तहत बीपीएल परिवारों के बच्चों की राशि को लेकर सलूंबर विधायक अमृतलाल मीणा ने सवाल किया। साथ के साथ विस में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने भी सवाल किए। जवाब देते हुए शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने पिछली सरकार की देनदारियों की बात की। कटारिया ने सवाल किया कि सलूंबर के 302 के सवाल का जवाब सरकार नहीं दे सकती है तो सवाल करने का मायना क्या रहता है? सदन में मावली विस के कई मुद्दे भी आए। सलूंबर विधायक अमृतलाल मीणा ने सलूंबर, सराड़ा, सेमारी व झल्लारा क्षेत्र में वर्ष 2019-20 में किन-किन निजी स्कूलों में आरटीइ के तहत बीपीएल परिवार के बच्चों को प्रवेश दिया गया और किन-किन स्कूलों को राशि दी गई। जवाब देते हुए शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि सलूंबर में 139, सराड़ा में 31, सेमारी के कुछ भाग में 45 तो कुछ में 30, झल्लारा में 57 कुल 302 विद्यार्थी लाभान्वित हुए है, मंत्री ने कहा कि 2019-20 की प्रथम किस्त प्रक्रियाधीन है। विधायक मीणा ने कहा कि मंत्री सत्र समाप्त होने में 20 दिन रहे है, भुगतान कब तक कर देंगे। डोटासरा ने कहा कि आपकी सरकार में करीब 138 करोड़ रुपए छोडकऱ गए जो आप भुगतान नहीं कर पाए, हमारी सरकार ने 53 करोड़ जारी भी किए है, पहले आपकी देनदारी छोड़ेंगे फिर नए लोगों को पैसा देंगे। विस में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि इस प्रकार के उत्तर आएंगे तो प्रश्र पूछने का मंतव्य ही खत्म हो जाएगा। सरकार सलूंबर में ही 302 बच्चों के बारे में अगर सरकार यह नहीं बता सकती है कि कितनी किस्तों में भुगतान करते है, पहली किस्त में कितना पैसा जाना है, बच्चों को कितनी किस्तों में कितना रुपए जाना है अगर यह नहीं बता सकते है तो फिर प्रश्र पूछने का क्या फायदा है। मंत्री डोटासरा ने कहा कि 302 बच्चों केा अप्रेल में भुगतान कर देंगे।

जमीन मिली तो फतहनगर में आवासन योजना का विचार

मावली विधायक धर्मनारायण जोशी ने फतहनगर में आवासन मंडल की आवासीय योजना बनाने का सवाल किया। जवाब में यूडीएच मंत्री शांतिकुमार धारीवाल ने कहा कि वहां ऐसी कोई योजना बनाने का नहीं है। जोशी ने कहा कि फतहनगर पालिका में पांच ऐसी पंचायतें आती है जो नगर पालिका क्षेत्र से जुड़ी हुई है, सरकार वहां से भूमि अधिगृहित कर मकान बनाने की योजनाए बनाए। फतहनगर कोटा व निम्बाहेड़ा के बाद राजस्थान की तीसरी बड़ी मंडी है। धारीवाल ने कहा कि इसे दिखवा लेते है, भूमि उपलब्ध होगी और वहां जरूरत होगी तो प्लान बनाएंगे।

मावली तहसील के स्कूलों के भवनों के हाल खराब

नियम 295 के तहत मावली विधायक जोशी ने मावली तहसील के जर्जर व जीर्ण विद्यालय भवनों से जन-धन हानि की आशंका व स्टेट हाइवे फतहनगर-दरीबा के क्षतिग्रस्त होने से आमजन को हो रही परेशानी का मुद्दा रखा। वैसे उनका प्रस्ताव पढ़ा हुआ माना गया। जोशी ने प्रस्ताव में कहा कि साकरोदा में स्कूल भवन के पुराने कमरे ढह गये है, हादसे के दिन अवकाश होने से कोई जनहानि नहीं हुई है। इतनी बडी घटना के बाद भी विभाग के अधिकारी नहीं जागे और कोई संज्ञान नही लिया। पुरावतों का खेडा (मावली) में 100 छात्र-छात्राओं के लिए एक ही कक्षा-कक्ष है, वह भी जर्जर व सीलन भरा है। इसी प्रकार बांसलिया, जावड, बालिका विद्यालय मावली गांव, बालिका विद्यालय फतहनगर के भवन पुराने व जर्जर हो चुके है। स्कूल के कमरों मे पानी टपकना पूरी तहसील के सरकारी स्कूलों की आम समस्या है। इसके लिये एक विशेष मरम्मत अभियान चलाया जायें।

फतहनगर-दरीबा स्टेट हाइवे टूटा पड़ा

विधायक जोशी ने फतहनगर- दरीबा स्टेट हाइवे के क्षतिग्रस्त होने से जनता को हो रही परेशानी की और सरकार का ध्यानाकर्षण किया। उत्तर में सरकार ने बताया कि उक्त सडक़ पर माईनिंग के भारी वाहन चलने व अधिक वर्षा से सडक अत्यधिक क्षतिग्रस्त हो गई। जिसकी मरम्मत के लिए जुलाई 2019 में कार्यादेश जारी किया गया था लेकिन यह सडक़ अत्यधिक क्षतिग्रस्त होने के कारण मरम्मत कार्य पूर्ण नहीं हो सका, अब शेष कार्य के लिये निविदा आमंत्रित की गई है।

सलूंबर में 100 से ज्यादा सडक़ों पर डामरीकरण नहीं

पर्ची के जरिए बोलते हुए सलूंबर विधायक अमृतलाल मीणा ने सलूंबर विस में 2018 में स्वीकृत 100 से ज्यादा पेवर सडक़ें है, उनका अभी तक डामरीकरण नहीं हुआ है जिससे जनता परेशान है। उन्होंने कहा कि लांबा पीपला से सेमारी रजौर तक, खाखरिया सम्पर्क सडक़, थाणा से नठारा बड़ा चौराहा, पलोदड़ा से जावरमाइंस सहित कई सडक़ें स्वीकृत है पर डामर नहीं हुआ है। उन्होंने सडक़ों के पेवरीकरण करने की मांग की।

Patrika

Leave a Comment