भगवान ही इनका सहारा, 60 के पार खतरे के बीच बचा रहे लोगों की जिंदगी

– आरएनटी में करीब 10 चिकित्सक 60 पार, उनकी सुरक्षा क्या ?

– कोरोना संक्रमण का बड़ा खतरा बुजुर्गों पर

– नहीं पहनते है मास्क या किट

भुवनेश पंड्या
उदयपुर. यहां बात ऐसे चिकित्सकों की है, जो बकायदा एमबी हॉस्पिटल में सेवाएं दे रहे हैं, रोजाना मरीजों को देख रहे हैं, सामान्य चिकित्सकों की तरह ही ओपीडी से लेकर ऑपरेशन थियेटर्स में काम कर रहे हैं। आखिर उनकी सुरक्षा को लेकर एमबी हॉस्पिटल ने क्या किया है। खास बात ये है कि ये कि ये कोरोना वायरस अधिकांश बुजुर्गों को या बीमार व्यक्ति पर ज्यादा अटैक कर रहा है, लेकिन एमबी में इसे लेकर कोई खास सावचेत नहीं है।

—–

नहीं पहनते किट या मास्क अधिकांश चिकित्सक ऐसे है जो ना तो मास्क पहन रहे हैं और ना ही पीपीई किट, ऐसे में उनके बीमार होने का खतरा है, तो उनके द्वारा जो मरीज देखे जा रहे हैं, उनमें भी संक्रमण सामने आ सकता है। इस स्थिति को नियंत्रित करने के लिए एमबी प्रशासन को जल्द सख्त कदम उठाने चाहिए।

—–

विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से जारी निर्देश: यूं अधिक उम्र के मरीजों में होता है खतरा: उम्रवार – मृत्युदर 10 से19 वर्ष- 0.2 प्रतिशत 20 से 29 वर्ष-0.2 प्रतिशत 30 से 39 वर्ष- 0.2 प्रतिशत 40 से 49 वर्ष-0.4 प्रतिशत 50 से 59 वर्ष-1.3 प्रतिशत 60 से 69 वर्ष-3.6 प्रतिशत 70 से 79 वर्ष 8.0 प्रतिशत 80 से ऊपर- 14.8- 21.9 प्रतिशत

——

सभी चिकित्सकों और स्टाफ को निर्देशित किया गया है कि हर स्तर पर वे सतर्क रहें, किसी भी स्थिति में खुद सुरक्षित रहें और मास्क पहने, जरूरत पर पीपीई किट भी पहने। डॉ आरएल सुमन, अधीक्षक एमबी हॉस्पिटल उदयपुर

Patrika

Leave a Comment