प्रधानमंत्री ग्राम सडक़ योजना के तृतीय चरण में करोड़ों की सड़कों काेे म‍िली स्‍वीकृृृृत‍ि

वल्‍लभनगर में 24.88 करोड़ की सड़कें स्‍वीकृृृत, मेनार से खेरोदा के ल‍िए पौनेे चार करोड़

मेनार. प्रधानमंत्री ग्राम सडक़ योजना के तृतीय चरण में संसदीय क्षेत्र में सडक़ों की स्वीकृति जारी हुई है। सांसद सीपी जोशी ने बताया कि संसदीय क्षेत्र चित्तौडगढ़ के प्रतापगढ़ एवं उदयपुर जिले में 58.6 किमी सडक़ो के लिये 34.81 करोड़ की राशि की स्वीकृति हुई है।
इसके तहत प्रतापगढ़ जिले में 20.6 किमी की 4 सडक़ों के लिये 9 करोड़ 91 लाख रू तथा उदयपुर जिले में मावली व वल्लभनगर विधानसभाओं में 38 किमी की 7 सडक़ों के लिए 24 करोड़ 88 लाख की स्वीकृति जारी हुई है। साथ ही चित्तौडगढ़ जिला एवं अन्य शेष रही तहसीलों में भारत सरकार द्वारा तृतीय फेज के आगामी द्वितीय चरण में चयन किया जाएगा।
पत्रिका ने उठाया था मेनार खेरोदा सडक़ का मुद्दा : पत्रिका ने वल्लभनगर में 24.88 करोड़ की सडक़ें स्वीकृत मेनार से खेरोदा सडक़ के लिए पौने चार करोड़
मेनार. प्रधानमंत्री ग्राम सडक़ योजना के तृतीय चरण में संसदीय क्षेत्र में सडक़ों की स्वीकृति जारी हुई है। सांसद सीपी जोशी ने बताया कि संसदीय क्षेत्र चित्तौडगढ़ के प्रतापगढ़ एवं उदयपुर जिले में 58.6 किमी सडक़ो के लिये 34.81 करोड़ की राशि की स्वीकृति हुई है।
इसके तहत प्रतापगढ़ जिले में 20.6 किमी की 4 सडक़ों के लिये 9 करोड़ 91 लाख रू तथा उदयपुर जिले में मावली व वल्लभनगर विधानसभाओं में 38 किमी की 7 सडक़ों के लिए 24 करोड़ 88 लाख की स्वीकृति जारी हुई है। साथ ही चित्तौडगढ़ जिला एवं अन्य शेष रही तहसीलों में भारत सरकार द्वारा तृतीय फेज के आगामी द्वितीय चरण में चयन किया जाएगा।
पत्रिका ने उठाया था मेनार खेरोदा सडक़ का मुद्दा : पत्रिका ने मेनार से खेरोदा सडक़ का मुद्दा समय-समय पर उठाया । आजादी के 70 साल बाद भी दोनो कस्बो को जोडऩे वाला मुख्य मार्ग कच्चा और उबड़ खाबड़ है। इस मार्ग के बनने से दोनों कस्बो में आवाजाही सुलभ हो सकेगी। वर्षो से रुका व्यापार में आदान प्रदान अब फिर से शुरू हो पाएगा। वही खेरोदा खरसान और बाठेड़ा जाने वाले राहगीरो को 5 किलोमीटर का अतिरिक्त चक्कर लगाकर जाने की मजबूरी थी। अब इस मार्ग के स्वीकृत होने से मेनार से मात्र 5 किलोमीटर की दूरी में पहुचा जा सकेगा वरना अमरपुरा खालसा और नवानिया चौराहा से जाने पर ये दूरी 10 किमी तक होती है। बारिश के समय इस मार्ग से पैदल गुजरना भी मुश्किल हो जाता है। गींगला पसं. मेवल क्षेत्र के जयसमंद केचमेंट एरिया की नदी क्षेत्र में सुप्रीम कोर्ट की रोक के बावजूद अवैध बजरी खनन कर परिवहन करते पुलिस व माइनिंग विभाग की संयुक्त कार्रवाई में शनिवार को दो ट्रैक्टर जब्त किए जबकि एक चालक को गिरफ्तार किया गया और दूसरा भाग निकला। पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर लिया है। गुड़ेल नदी से बजरी भर कर जा रहे दो ट्रैक्टरों को पुलिस व माइनिंग की टीम ने रुकवाए तो एक चालक मौका देख भाग निकला जबकि दूसरा चालक दर्जी मंगरी सोमाखेड़ा निवासी गोतम डांगी को गिरफ्तार कर लिया। दोनों ट्रैक्टरों को जब्त कर गींगला थाने रखवाए गए। कार्रवाई में गींगला थाना प्रभारी एएसआई अब्दुल रज्जाक मय जाप्ता व माइनिंग विभाग के फोरमेन जोगाराम मय होमर्गाड की टीम साथ रही। पुलिस ने देानों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर कोर्ट में पेश किए जाएंगे। इधर कार्रवाई की भनक ज्यों ही दूसरों को लगी तो वे भाग निकले।






Patrika

Leave a Comment