नकारा वाहन से अगर टक्कर लग गई तो बिक जाएंगें घर बार

0
376

नकारा वाहन से अगर टक्कर लग गई तो बिक जाएंगें घर बार

मोहम्मद इलियास/उदयपुर
जिले में परिवहन विभाग की ओर से अवधिपार (कंडम) घोषित तथा बिना रजिस्टे्रशन वाले कई ऐसे वाहन हैं, जो सडक़ों पर धड़ल्ले से दौड़ते हुए लोगों की जान को जोखिम में डाल रहे हंै। 2005 से पहले के कंडम हो चुके इन वाहनों को विभाग आरसी सस्पेंड करने के साथ ही रिकॉर्ड से बाहर कर चुका है।नियमानुसार हर वाहन को खरीदने के 15 वर्ष बाद पुन: पंंजीकरण कराना होता है, लेकिन अब तक महज 10 फीसदी वाहनों का ही पंजीकरण हो पाया है। पंजीकरण कराने के लिए विभाग ने वाहन मालिकों को नोटिस भी भिजवाए, लेकिन दो फीसदी ही जवाब उनके पास पहुंचे। जिले में 85 हजार ऐसे अवधि पार वाहन हैं, जो कागजों में भी जिंदा है। वर्तमान में इनमें से कितने सडक़ों पर दौड़ रहे हैं और कितने कबाडख़ाने या अन्य राज्यों में चले गए, इनका कोई रिकार्ड नहीं है।

्रप्रतिवर्ष भेजे जाते हंै नोटिसइन वाहन संचालकों को प्रतिवर्ष नवीनीकरण कराने के लिए विभाग की ओर से नोटिस भेजे जाते हैंं लेकिन वाहन मालिक के निवास बदल जाने के कारण डाक लौट कर आ जाती है। इस वर्ष विभाग ने 2005 से पहले के वाहनों की आरसी सस्पेंड की। उसकी बावजूद बिना रजिस्ट्रेशन के भी कई वाहन सडक़ों पर अभी भी दौड़ रहे हैं।…यह है नियम?अवधिपार वाहन का पंजीकरण- नवीनीकरण नहीं होने पर केन्द्रीय मोटरयान अधिनियम 1988 की धारा 207 के तहत वाहन जब्त किया जा सकता है। किसी भी वाहन को बेचने या वाहन मालिक का पता बदलने की स्थिति में वाहन मालिक को 14 दिन में कार्यालय को सूचना देनी होती है, लेकिन ऐसा नहीं होता है।
—-
कंडम वाहन से अगर दुर्घटना होती तो उसके लिए संबंधित थानाधिकारी, आरटीओ व डीटीओ जिम्मेदारी है। फिटनेस कम्पलीट होना चाहिए है। जिन वाहनों का फिटनेस अवधि व 15 वर्ष पूरे जो चुके है उन्हें तुरंत प्रभाव से परिवहन विभाग कार्यालय में बुलाना चाहिए। ऐसे वाहन नहीं आते है तो उन्हें सीज करने की कार्रवाई करनी चाहिए। कंडम वाहन जो सडक़ों पर खड़े रहते हैं वो भी कानून का उल्लंघन है। ऐसे वाहनों को जब्त कर मालिक के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए।
पराग अग्रवाल, वरिष्ठ अधिवक्ता
अभियान चलाकर पकड़ेंगे2005 से पहले के वाहनों की आरसी सस्पेंड कर दी है। ये वाहन कंडम हो चुके हैं। अगर ये वाहन सडक़ों पर चल रहे है तो अभियान चलाकर उन्हें पकड़ा जाएगा।
प्रकाशसिंह राठौड़, प्रादेशिक परिवहन अधिकारी



Patrika

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here