घबराए नहीं अपने जिलों में ही रहे मरीज, यात्रा पर बढ़ सकता है संक्रमण – घबराए नहीं अपने जिलों में ही रहे मरीज, यात्रा पर बढ़ सकता है संक्रमण

– आरएनटी की लैब में दूसरे रोगी की रिपोर्ट मिली पोजिटिव

– प्रतापगढ़ का पोजिटिव रोगी भेजा उदयपुर

– अब तक कोरोना वार्ड में तीन भर्ती

– एक पॉजिटिव, दो संदिग्ध

भुवनेश पंड्या
उदयपुर. यदि कोई कोरोना संदिग्ध है या कोरोना पोजिटिव है तो उसे अपने जिलों में ही रखकर उपचार करवाना चाहिए, जब तक की वह सामान्य स्थिति में है, यदि बेहद जरूरी है, श्वास लेने में परेशानी आ रही है तो उसे उदयपुर एमबी हॉस्पिटल के लिए रेफर करना चाहिए, ताकि मरीज की यात्रा के दौरान अन्य लोगों में संक्रमण फैलने जैसी स्थिति नहीं बने।

—-

कोरोना से संदिग्ध मरीज भेजा उदयपुर – प्रतापगढ़ का जो 49 वर्षीय मरीज कोरोना पॉजिटिव है, उसे शनिवार देर शाम उदयपुर भेज दिया गया है, उसे यहां कोरोना वार्ड में भर्ती किया गया है। – वार्ड में महाराष्ट्र के पुणे से लौटी एक 20 वर्षीय युवती को भी बतौर संदिग्ध मरीज रखा गया है। वह 16 मार्च को उदयपुर पहुंची थी। – वार्ड में देवली टोंक से आया एक 20 वर्षीय युवक भर्ती है, इसने भीलवाड़ा के कोरोना संक्रमित चिकित्सक से उपचार करवाया था। – भीलवाड़ा से पहले आए, महिला पुरुष को भेजा न्यूरो सर्जरी दोनों की रिपोर्ट नेगेटिव मिली है।

———–

संदिग्ध मरीज भी वहीं रोके जाए यदि दक्षिणाचंल में कोई संदिग्ध मरीज नजर आता है तो उसे सामान्य स्थिति होने तक वहीं उपचार किया जाए, ताकि ना तो उसे समस्या होगी और ना ही जिस मार्ग से वह आएगा वहां संक्रमण वाली स्थिति बनेगी।

—-

यदि कोई मरीज सामान्य स्थिति में है तो उसे उसी जिले में भर्ती रखना चाहिए, चाहे वह पॉजिटिव हो या संदिग्ध, संक्रमण से बचने के लिए ये बेहतर उपाय है, संबंधित जिले के बड़े हॉस्पिटलों, निजी की भी सहायता ली जा सकती है। डॉ आरएल सुमन, अधीक्षक महाराणा भूपाल हॉस्पिटल उदयपुर

Patrika

Leave a Comment