गैस एजेंसियां कैसे चल रही है, कटारिया व फूलसिंह ने पूछा सरकार से

0
364

विधानसभा में उदयपुर

मुकेश हिंगड़ / उदयपुर. राज्य विधानसभा में मंगलवार को गैस कनेक्शन को लेकर एक सवाल पर कई संशय सामने आए। सवाल करने वाले ग्रामीण विधायक फूलसिंह मीणा और उनके साथ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने भी सवाल पर सवाल किए। जवाब देते हुए खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री रमेशचंद मीणा ने कहा कि पूरे मामले की जांच करवा देंगे। सदन में मीणा ने सरकार से पूछा कि उदयपुर ग्रामीण विधानसभा में जनवरी 2020 तक गैस कनेक्शन से वंचित परिवारों की संख्या और नई गैस एजेंसी खोलने का सवाल किया। जवाब देते हुए मंत्री मीणा ने कहा कि ग्रामीण विस में 840 परिवार गेस कनेक्शन से वंचित है तथा 22 गैस एजेंसियां कार्यरत है जिनके पास 58,181 गैस कनेक्शन जारी है। विधायक मीणा ने मंत्री से पूछा कि विस क्षेत्र में केवल एक गैस एजेंसी है नूतन गैस एजेंसी जिसके पास 19,900 गैस कनेक्शन है क्योंकि वह विशेष वजूद रखती है। मीणा ने कहा कि उसमें 32 कनेक्शन ऐसे है जो कनेक्शन उनके नाम पर बोल रहा है और गैस की टंकी उनके पास नहीं जा रही है। साथ ही 14 कनेक्शन ऐसे है जिनकी टंकी गोदाम से निकल रही है उनको पता नहीं है। विधायक मीणा ने कहा कि गैस एजेंसी के बारे में जो डायरेक्ट ऑनलाइन से उनके आधार कार्ड लेकर उन्होंने उनका सत्यापन कर लिया। वे ऐसे कनेक्शन उठा रहे है। विधायक मीणा ने मंत्री से कहा इसकी जांच करवाए। मंत्री रमेशचंद ने कहा कि नूतन गैस एजेंसी के 19 हजार से ऊपर गैस कनेक्शन की जांच कराने के बाद अनियमितताएं पाई जाती है तो तो हम जांच व निरीक्षण कर सकते है, बाकी का अधिकार भारत सरकार को है, हम केन्द्र सरकार को लिख सकते है।

कटारिया का सवाल गैस एजेंसिंया कैसे सर्वाइव करती

इस सवाल पर बोलते हुए कटारिया ने कहा कि श्याम एचपी गैस एजेंसी के पास 804 आवेदन पेंडिंग पड़े है, बाकी एक भी गैस एजेंसी के पास नहीं है। कटारिया ने कहा कि दूसरी कुछ गैस एजेंसियां जिनके पास 80, किसी के पास 349, 866,219, 500 कनेक्शन है ये एजेंसियां कैसे सर्वाइव करती होगी। उन्होंने कहा कि एक गैस एजेंसी के पास 19000 कनेक्शन है और दूसरी के पास 80, आखिर यह कैसे चल रही है। मंत्री मीणा ने कहा कि श्याम एचपी गैस एजेंसी के मामले को दिखवा देंगे, कटारिया ने बीच में कहा कि मंत्री जी आप प्रश्न जांचते समय आपके मन में भी इन आंकड़ों से सवाल आता होगा कि यह कैसे संभव हो रहा है। मंत्री ने कहा कि यह एक साल से नहीं है, ये पहले से ही है, आज की बात नहीं है। एक कमेटी बनाकर जांच करा लेंगे, जो रिपोर्ट आएगी उसको यहां पेश कर लेंगे।

पुलिस थानों में 82 का स्टाफ कम

मावली विधायक धर्मनारायण जोशी ने विस क्षेत्र में स्थित पुलिस थानों में नफरी को लेकर सवाल किया। जवाब में सरकार ने बताया कि मावली, फतहनगर, घासा, डबोक, सुखेर व प्रतापनगर थाने में अभी 5 उप निरीक्षकों, 14 सहायक उप निरीक्षकों, 18 हैड कांस्टेबलों तथा 45 कांस्टेबलों की कमी है। सरकार ने कहा कि वर्तमान में नफरी बढ़ाने का कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है।

संगमेश्वर पुलिया शुरू नहीं हुआ काम

सलूंबर विधायक अमृतलाल मीणा ने संगमेश्वर पुलिया को लेकर सवाल किया। सरकार ने जवाब देते हुए कहा कि पुलिया का वर्ष 2013 में शिलान्यास किया गया लेकिन समुचित स्वीकृति राशि के अभाव में कार्य संपादन नहीं कराया गया। संशोधित स्वीकृति के बाद दो बार निविदा आमंत्रण किया गया लेकिन प्रतिस्पर्धात्मक दरें प्राप्त नहीं होने के कारण कार्यादेश नहीं दिया जा सका है। सरकार ने कहा कि इस पुलिया के लिए फिर से निविदा आमंत्रित की जा चुकी है जो कि 18 मार्च 2020 को प्राप्त की जाएगी और निविदा प्राप्त होनेे के बाद ही नियमानुसार स्वीकृति के बाद ही कार्य शुरू किया जा सकेगा।

आहड संग्रहालय में 9910 पर्यटक आए
राजसमंद विधायक किरण माहेश्वरी ने उदयपुर के राजकीय संग्रहालय आहड में पिछले चार वर्षों में पर्यटकों को लेकर सवाल किया। सरकार ने बताया कि पिछले चार साल (2015-16 से 2018-19) तक 9910 पर्यटकों का प्रवेश हुआ। सरकार ने कहा कि प्रतिदिन वहां 10 पर्यटक आते है। इस अवधि में 2,01,355 रुपए की आय हुई है।

Patrika

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here