कोरोना वायरस का डर चढऩे लगा मंदिर की सीढ़ी, भगवान की देहरी भी करनी होगी ‘ दवा से शुद्ध’

– राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत आदेश जारी – मंदिरों के लिए सेनिटेशन सिस्टम जारी

भुवनेश पंड्या
उदयपुर. अब तक गली मोहल्लों से लेकर हॉस्पिटलों के बरामदों से होता हुआ कोरोना का डर ईश्वर के दरवाजे तक पहुंच गया है। अब मंदिरों के लिए भी सरकार ने सेनिटेशन सिस्टम जारी किया है। प्रदेश में भले ही कोरोना वायरस से संक्रमित केवल दो मरीज सामने आए हैं, लेकिन सरकार ने हर स्तर पर एहतियात बरतने लगी है। सरकार ने अब प्रदेश के बडे़ मंदिरों के प्रबन्धक व ट्रस्ट को पत्र लिखना शुरू कर दिया है कि मंदिरों में सरकार की ओर से जारी सेनिटेशन सिस्टम को नियमानुसार लागू किया जाए।

—–

चिकित्सा, एवं परिवार कल्याण विभाग, स्वास्थ्य भवन से गोविन्द देव जी मन्दिर ट्रस्ट जयपुर और खोले के हनुमानजी मन्दिर ट्रस्ट प्रबन्धक जयपुर को पत्र लिखा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर वे पूरी सतर्कता बरतें। मंदिर में पहुंचने वाले भक्तों की सुरक्षा को लेकर इसे बेहद गंभीर माना गया है। सरकार जल्द ही प्रदेश के अन्य बडे़ मंदिरों के प्रबन्धकों को भी इसकी सतर्कता बरतने के लिए पत्र लिखने का मन बना रही है। इसके पीछे सरकार का तर्क है कि मन्दिर परिसर में श्रद्धालुओं की संख्या अधिक होती है, इससे संक्रमण फेलने की संभावना बनी रहती है।

—-

ये करना होगा- मन्दिर परिसर की फ र्श, रेलिंग, दरवाजे, खिडकियों, बेंचेज इत्यादि को प्रतिदिन 1 प्रतिशत सोडियम हाइपोक्लोराइट सोल्यूशन के माध्यम से विंसक्रमित करवाया जाना होगा। – मन्दिर परिसर में पर्याप्त मात्रा में आईईसी के माध्यम से लोगों को वायरस से संक्रमण रोकने के संबंध मे जागरूक करना होगा।

—–

संक्रमण को रोक ने व आम लोगों तक पहुंचने वाली गलत जानकारी से बचना बेहद जरूरी है, इसके लिए विभाग ने अपील भी जारी की है कि कोई भी व्यक्ति अपवाहों से नहीं घबराए। मंदिरों में श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए ये कदम उठाए जा रहे हैं।

डॉ दिनेश खराड़ी, सीएमएचओ उदयपुर
—-

Patrika

Leave a Comment