कॉलेज विद्यार्थी जुड़ेंगे समाज से, माह की पहली तारीख नो व्हीकल-डे

0
286
AdvertisementAmazon Great Indian Sale Banner

नए सत्र से सरकारी कॉलेजों में शुरू होगा आनंदम् कार्यक्रम, पर्यावरण संरक्षण के लिए महीने में एक दिन कोई नहीं लाएंगे गाडिय़ां

उदयपुर. जिले के सभी सरकारी कॉलेजों के विद्यार्थी अब न केवल कॉलेज परिसर तक सीमित रहेंगे, बल्कि उन्हें सामाजिक गतिविधियों से भी जोड़ा जाएगा। आगामी सत्र से महाविद्यालय परिसरों में आनंदम् कार्यक्रम शुरू होगा। इसे अनिवार्य तौर पर लागू किया जा रहा है। इसके अलावा हर माह के पहले दिन नो व्हीकल डे भी घोषित किया गया है।सत्र 2020-21 से आनंदम् नामक कोर्स शुरू किया जा रहा है। पाठ्यक्रम के तहत कॉलेज स्टूडेंट समाज में जाकर बुजुर्गों और जरूरतमंदों की सहायता करेंगे। आयुक्तालय की ओर से इसे लेकर दिए गए निर्देशों की पालना में कॉलेजों ने तैयारी शुरू कर दी है। हर कॉलेज में इस पाठ्यक्रम के लिए अलग से नोडल ऑफिसर नियुक्त किया जाएगा।
कॉलेज शिक्षा आयुक्त प्रदीप बरोड़ के अनुसार कोर्स का मुख्य उद्देश्य युवाओं को सामाजिक कार्यक्रमों से सीधा जोडऩा है। आनंदम् कोर्स में छात्र-छात्राएं सामाजिक गतिविधियों का संचालन करेंगे, बुजुर्गों और जरूरतमंदों की सहायता करेंगे, स्कूलों विद्यार्थियों की पढ़ाई में भी मदद करेंगे। चिकित्सा सहायता, आकस्मिक दुर्घटना, प्राकृतिक आपदा में मदद और इनके अलावा अन्य कार्य भी इस कोर्स के तहत होंगे। इस काम के बदले विद्यार्थियों को क्रेडिट भी दिया जाएगा। पाठ्यक्रम को लागू करने के लिए नोडल अधिकारी बनाने के निर्देश आयुक्तालय ने दिए हैं। सभी सरकारी कॉलेजों के प्राचार्यों ने अपने-अपने कॉलेजों में एक नोडल अधिकारी नियुक्त करने के लिए उनके नाम, मोबाइल नंबर और ई-मेल आइडी आयुक्तालय को भेजे हैं। उच्च शिक्षा विभाग की ओर से सभी विश्वविद्यालयों के बोर्ड ऑफ स्टडी को नए सत्र से ही इसे लागू करने और इस संबंध में पाठ्यक्रम बनाने के भी निर्देश दिए गए हैं।
– आमजन-विद्यार्थियों से भी की अपील
पर्यावरण एवं सड़क सुरक्षा के मद्देनजर कॉलेज आयुक्तालय ने प्रेरणात्मक निर्णय किया है। अब हर माह की पहली तारीख को राज्य के सरकारी और निजी महाविद्यालयों में नो-व्हीकल डे के रूप में मनाया जाएगा। आयुक्त प्रदीप बरोड़ ने इस सम्बंध में निर्देश जारी करते हुए कहा है कि यह व्यवस्था स्वैच्छिक होगी। जो भी कॉलेज पर्यावरण और सड़क सुरक्षा के दृष्टिकोण से इसे मनाना चाहें, मना सकते हैं। उन्होंने कॉलेज प्राचार्यों से अपील की कि विद्यार्थियों और आमजन को इसके लिए प्रेरित भी करें। जिस पहली तारीख को अवकाश हों, उसके अगले कार्यदिवस पर नो व्हीकल डे रहेगा।

Patrika

AdvertisementAmazon Great Indian Sale Banner

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here