एनिमिया मुक्त कार्यक्रम पर बट्टा, कई स्कूलों में नहीं पहुंच रही गोली

0
287

– सीएमएचओ ने जारी किए निर्देश

– स्कूलों से लेकर शिक्षा विभाग गंभीर नहीं- शाला दर्पण पर नहीं हो रही अपडेट

भुवनेश पंड्या
उदयपुर. जिस कार्यक्रम को लेकर राज्य सरकार बेहद गंभीर है, वह कार्यक्रम उदयपुर जिले में फुटबॉल बना हुआ है। हालात ये है कि बच्चे भले ही कमजोरी के बचपन से गुजारते रहे, लेकिन सरकार का एनिमिया मुक्त कार्यक्रम शिक्षा और चिकित्सा के पाटे के बीच पिसता जा रहा है। हालात ये है कि जहां चिकित्सा विभाग केवल ब्लॉक स्तर पर एनिमिया की गोलियां पहुंचाकर अपनी जम्मेदारी की इतिश्री कर मान लेता है, वहां शिक्षा विभाग के लापरवाह रवैये से समय पर एनिमिया की गोलियां स्कूलों में नहीं पहुंच रही है, ना ही बच्चों को बांटी जा रही हैं।

—–

गत 13 फरवरी को एनिमिया मुक्त राजस्थान कार्यक्रम के अन्तर्गत एनआईपीपीआई की वितरित की गई गालियों की रिपोर्टिंग शाला दर्पण पोर्टल पर करवाने के सीएमएचओ ने निर्देश जारी किए थे। ये निर्देश सभी आरकेएसके काउंसलर को जारी कर इसकी कॉपी संबंधित मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी, सभी ब्लॉक शिक्षा अधिकारी, सभी काउसंलर को भेजी गई थी।

—-

स्कूलों के निरीक्षण में खुली पोल : एक रिपोर्ट में खुलासा जिला कलक्टर की ओर से बनाई गई कमेटी की ओर से कुछ दिनों पूर्व जिला प्रशासन को भेजी गई रिपोर्ट – राउमावि बग्गड़ में गोलियां प्राप्त नहीं होने की सूचना – राउप्रावि पाटिया, सीएमएचओ को गोलियां भेजने के लिए लिखा गया है। – राप्रावि नयाघर- सवीना ग्रामीण- आईएफए गोलियां एएनएफ की ओर से 18 जनवरी तक उपलब्ध करवाने के लिए लिखा।- राउप्रावि पाराखेत- डिवार्मिंग की गोलिया नहीं दी जा रही है, अप्राप्त। – राउमावि एकलिंगपुरा- जनवरी 19 के बाद से आईएफए गोलियां सीएमएचओ से वितरित नहीं हो पा रही। – राउमावि कानपुर- जनवरी 19 के बाद से आईएफए की गोलियां नहीं दी जा रही हैं। – राउप्रावि तुरकिया- आईएफए गोलिया नहीं दी जा रही है, मिलने पर देने की जानकारी – राउप्रावि बामनिया खेत आईएफए गोलिया नियमित रूप से नहीं दी जा रही है, मिलने पर देने की जानकारी- राउमावि इंटाली- आईएफए की गोलिया नहीं दी जा रही, मिलने पर द ेने की जानकारी- राप्रावि तलाई मामादेव- डिवार्मिंग व आइएफए का वितरण नहीं किया जा रहा, मिलने पर देने की जानकारी। – राप्रावि सुखवाड़ा- आईएफए की गोलियां नहीं दी जा रही हैं। (ये केवल बानगीभर है, जिले के कई ऐसे स्कूल है, ना तो वहां पर ये गोलिया पहुंचती है, ना ही समय पर पहुंचने के बाद वितरित तक होती हैं। विभाग की दलील है कि वहां से नियमित गोलियों की सप्लाई ब्लॉक स्तर के लिए की जाती है। )

—-इस तरह की गोलियां भेजी जानी चाहिए स्कूलों में आयरन फोलिक एसिड की तीन केटेगरी स्कूलों में दी जा रही है। इसमें सिरप: पांच वर्ष से कम उम्र का बच्चा गुलाबी गोली- पांच से दस साल के बच्चों के लिए नीली गोली- दस वर्ष से ऊपर के बच्चों के लिए

—-हमारी ओर से तो सभी स्कूलों को एनिमिया मुक्त राजस्थान की दवा समय पर ब्लॉक स्तर पर भेजी जा रही है। यदि वहां से आगे नहीं जाती है तो इसके लिए शिक्षा विभाग को देखना चाहिए।

डॉ रागिनी अग्रवाल, अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी

—–

हम लगातार फोलोअप कर रहे हैं, इस रिपोर्ट में अब सुधार हुआ है। सभी स्कूलों को भी इसमें गंभीरता बरतने का आग्रह किया है। डॉ दिनेश खराड़ी, सीएमएचओ उदयपुर

—-

सभी स्कूलों को निर्देश दिए है कि वह समय पर इस दवा को बच्चों को उपलब्ध करवाएं। शिवजी गोड, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी उदयपुर

Patrika

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here