एक ऐसा चोर जिसने मौज शौक के लिए ट्रेनों में लोगों की उड़ा रखी थी नींद

0
301
AdvertisementAmazon Great Indian Sale Banner

एक ऐसा चोर जिसने मौज शौक के लिए ट्रेनों में लोगों की उड़ा रखी थी नींद

मोहम्मद इलियास/उदयपुर
उदयपुर. रेल में पर्स व सामान पार करने वाले शातिर आरोपी को रेलवे पुलिस ने भीलवाड़ा में धरदबोचा। पूछताछ के बाद पुलिस ने उसे चित्तौडगढ़़ रेलवे पुलिस को सुपुर्द किया। पूछताछ में आरोपी ने ट्रेनों में कई यात्रियों के पर्स व सामान पार करना स्वीकारा है। पुलिस ने उससे कई पर्स बरामद किए। रेलवे पुलिस अधिकारियों ने बताया कि आरोपी इमलिया कटनी मध्यप्रदेश निवासी दीपक पुत्र अरुण नामदेव काफी शातिर होकर अपराधी प्रवृत्ति का है। चोरी के सामान वह मौज शौक पूरा करता है। –यह था मामला आरपीएफ उदयपुर के हेड कांस्टेबल प्रतापसिंह व कांस्टेबल महेंद्र कुमार सवारी ट्रेन संख्या 19665 को एस्कॉर्ट कर रहे थे। भीलवाड़ा स्टेशन आने से 5 मिनट पहले नितिन नामक यात्री ने शिकायत की कि एक युवक उसकी पत्नी का पर्स लेकर भाग गया है। पर्स में 10-11 हजार रुपए थे। एस्कॉर्ट टीम इंचार्ज राजेश कुमार ने बी-3 कोच की जांच की, लेकिन युवक नहीं मिला। भीलवाड़ा स्टेशन से पुन: रवाना हुई ट्रेन की चेन खींचकर युवक भागने लगा। हेड कांस्टेबल लुम्बराजसिंह ने युवक को दबोच लिया। उसे पुन: ट्रेन में लाकर यात्रियों के सामने खड़ा किया। पीडि़त यात्रियों ने पहचान लिया। पूछताछ में उसने यात्री नितिन की पत्नी का पर्स चुराना स्वीकार लिया। पुलिस को उसके पास आगरा छावनी से उदयपुर सिटी तक का रिजर्वेशन का टिकट मिला। भीलवाड़ा में पकड़े जाने पर आरपीएफ टीम उसे उदयपुर ले आई।
—-
पांच मिनट में सब चेंज
पुलिस ने बताया कि आरोपी युवक ने बैग का भी विशेष प्रकार का कवर रखा हुआ था, जिससे एक मिनट में ही बैग को ढंका जा सकता है। इससे बैग के कलर की पहचान नहीं हो सकती। इसी तरह से बैग में रखे शर्ट बदलकर वह यात्री और पुलिस को गुमराह करता है।
—-
महंगी वस्तुओं का शौक
आरोपी के पास पुलिस को दो कीमती मोबाइल व 12 हजार की नकदी मिली। उसके पास अजमेर में कपड़े ड्राइक्लीन की रसीद, कोटा में मोबाइल, घड़ी आदि की शॉपिंग और मनी ट्रांसफर की रसीदें भी मिली है।

करता रहा गुमराह
आरोपी युवक ने पुलिस को बताया कि वह झुंझुनू में दोस्त की शादी में जा रहा था, इसलिए भीलवाड़ा में ही उतर गया। आरोपी से मिले आधार कार्ड में उम्र 21 के बजाय 31 वर्ष लिखी मिली और फोटो की पहचान भी नहीं हो पाई।



Patrika

AdvertisementAmazon Great Indian Sale Banner

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here