उदयपुर के व्यापारी बोले- पर्यटन नहीं, पहले जिन्दगी बचाना जरूरी

दुनियाभर में कोरोना वायरस को लेकर मची दहशत के बीच झीलों की नगरी के पयर्टन को भी धक्का लगा है।

उदयपुर. लेकसिटी में ज्यादातर यूरोपीय देशों के पर्यटक आते हैं, जहां इन दिनों कोरोना से कोहराम मचा हुआ है। इटली, फ्रांस के पर्यटकों से आधा साल उदयपुर का पर्यटन गुलजार रहता है, जो यहां की लोकल इकोनॉमी को मजबूत करता है। पर्यटन की टूटती कमर के बीच उदयपुर के छोटे-बड़े कारोबारी, व्यापारी कहते हैं कि उनके लिए कमाई से ज्यादा सदी के इस सबसे ज्यादा भयानक रोग को हराना जरूरी हो गया है। उन्हें उम्मीद है कि भारत कोरोना से सुरक्षित रहेगा। जब दुनिया में इसका आतंक कम होगा, तो लेकसिटी का पर्यटन बहुत जल्द फिर से महकने लगेगा।

कोरोना वायरस बड़ा खतरनाक है। इससे पर्यटन पर असर तो पड़ा है। फ्लाइट्स, वीजा रद्द हुए हैं, लेकिन देशहित और मानवीयता बचाने के लिए यह नुकसान ज्यादा नहीं है। जीवन बचेगा तो सब ठीक हो जाएगा।
दिनेश वशिष्ठ, पेंटिंग्स विक्रेता, भट्टियानी चौहट्टा

अभी टूरिज्म हमारे लिए ज्यादा जरूरी नहीं है। महामारी से बचाव करना ज्यादा जरूरी है। सरकार आवश्यक उपाय कर रही है। विदेशी पर्यटकों के आने से यह रोग फैलने से अच्छा है, रोकथाम के लिए कुछ किया जाए।
सौरभ राजमाली, कपड़ा व्यापारी, भट्टियानी चौहट्टा

पर्यटक तो आते-जाते रहेंगे, लेकिन इस समय बेहद खतरनाक होते जा रहे कोरोना वायरस पर काबू पाना जरूरी हो गया है। वायरस बेकाबू हुआ तो देश की अर्थव्यवस्था को आगे बहुत नुकसान होगा।
सोनू सरदार, चमड़ा उत्पाद व्यापारी

हमारा व्यापार बाद में है। पहले वायरस को खत्म करना जरूरी है। सब कुछ ठीक होगा, तो उदयपुर का पर्यटन वैसे ही बढ़ जाएगा। चिकित्सा और अन्य विभाग प्रयास कर रहे हैं कि ज्यादा से ज्यादा लोग जागरूक हों। सरकार ने ऐहतियाती उपाय किए गए हैं।
ज्ञानप्रकाश जोशी, ज्वैलरी कारोबारी, जगदीश मंदिर चौक

मैं 30 साल से ऑटो चला रहा हूं। कोरोना के डर से टूरिस्ट कम हो गए है। धंधा ठप है, लेकिन सब सुरक्षित होंगे, तो पर्यटन कभी भी गति पकड़ लेगा। इस रोग को हमें सबको मिलकर जल्दी हराना होगा।
हेमराज तेली, ऑटो चालक

कोरोना वायरस के नियंत्रण को लेकर केन्द्र व राज्य सरकार जो प्रयास कर रही है वह काबिले तारीफ है। आम लोगों को समर्थन करना चाहिए। व्यापारियों के लिए भी पर्यटन से ऊपर देश की स्वास्थ्य सुरक्षा है।
गणपतलाल तम्बोली, हैण्डीक्राफ्ट व्यवसायी, जगदीश मंदिर चौक

Patrika

Leave a Comment