जानिए महिलाओ की योनी की कुछ ख़ास बातें , ऐसी कुछ जानकारियां जो शायद आप को नहीं पता होंगी !

हम आप को बता रहे है पुरुष और महिलाओ के गुप्तांग के बारे में , अब तक आपने जो भी पड़ा हो सकता है वो अधुरा ही ज्ञान हो हम आप को बताएँगे सही तरीके से क्या है महिलाओ और पुरुषो में अंतर और क्यों महिलाये है सब से उत्तम

मूत्रद्वार के नीचे एक बड़ा छिद्र होता है जिसको जनन छिद्र कहते है। इसी के रास्ते प्रत्येक महीने महिलाओं को मासिक स्राव (माहवारी) होती है। इसी रास्ते के द्वारा ही बच्चे का जन्म भी होता है। इसकी दीवारे लचीली होती है जो बच्चे के जन्म समय फैल जाती है। इसके नीचे थोड़ी सी दूरी पर एक छिद्र होता है जिसे मलद्वार या मल निकास द्वार कहते है।

गर्भाशय 7.5 सेमी लम्बी, 5 सेमी चौड़ी तथा इसकी दीवार 2.5 सेमी मोटी होती है। इसका वजन लगभग 35 ग्राम तथा इसकी आकृति नाशपाती के आकार के जैसी होती है। जिसका चौड़ा भाग ऊपर फंडस तथा पतला भाग नीचे इस्थमस कहलाता है। महिलाओं में यह मूत्र की थैली और मलाशय के बीच में होती है तथा गर्भाशय का झुकाव आगे की ओर होने पर उसे एन्टीवर्टेड कहते है अथवा पीछे की तरफ होने पर रीट्रोवर्टेड कहते है। गर्भाशय के झुकाव से बच्चे के जन्म पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।

आगे जानिए क्यों सेक्स जरुरी है महिलाओ और पुरषों के लिए