तारिक फतह ; भारत जैसा बेहतर देश, तो मुसलमानों के लिए दुनिया में कोई है ही नहीं

तारिक फतह ने कहा की, 1947 में भारत का इस्लामिक मजहब के लोगों ने बंटवारा करवाया था, जिन लोगों को शरिया और इस्लामिक राष्ट्र चाहिए था वो पाकिस्तान चले गए
जिन लोगों को सेक्युलर लोकतंत्र चाहिए था वो भारत में रह गए, अब भारत में रहने वाले मुसलमानो को शरिया और इस्लामिक राष्ट्र चाहिए तो वो जरा कुछ दिन पाकिस्तान और सोमालिया में रह कर देख ले
कुछ दिन शरिया का मजा ले लें, भागकर वापस भारत आ जायेंगे मुसलमानो के लिए भारत से महफूज और मुफीद जगह पूरी दुनिया में कहीं नहीं है